ALL ख़ास ख़बर जरा हटके ब्रेकिंग न्यूज़
पुलिस विभाग के अधिकारियों का व्यवहार यात्रियों के प्रति सभ्य एवं शालीन होना चाहिए-उप मुख्यमंत्री, उ0प्र0
January 4, 2020 • Arun Awasthi

मेले में कल्पवासियों को किसी भी तरह की तकलीफ न हो, इसका रखे विशेष ध्यान- उप मुख्यमंत्री
कुम्भ की भांति ही माघ मेला के आयोजन को बनाये सफल-उप मुख्यमंत्री, उ0प्र0
प्रयागराज। उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने माघ मेला की तैयारियों की समीक्षा बैठक व स्थलीय निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान उप मुख्यमंत्री ने प्रभारी अधिकारी माघ मेला कार्यालय के सामने रूक कर वहां अपनी शिकायत लेकर खड़े लोगो से ज्ञापन लिया एवं उनकी शिकायतों के जल्द समाधान करने का आश्वाशन दिया। लोगो ने उप मुख्यमंत्री से मेले में जमीन कम मिलने एवं न मिलने की शिकायत की। वहां से निकलकर संगम नोज तक जाकर वहां का स्थलीय निरीक्षण किया। मेला प्रभारी अधिकारी रजनीश मिश्र से मेला की चल रही तैयारियों के सम्बन्ध में जानकारी ली। प्रभारी अधिकारी ने उप मुख्यमंत्री जी को माघ मेला की तैयारियों से अवगत कराते हुए कहा कि समय से मेला के कार्य को पूरा करा लिया जायेगा। उप मुख्यमंत्री ने कहा कि जहां पर दल-दलीय जमीन है, उसको जल्द से जल्द ठीक कराकर उस जमीन को इस्तेमाल करने लायक बनाये।
इसके उपरांत उप मुख्यमंत्री मेला कार्यालय स्थित आईसीसीसी सभागार में मेला तैयारियों के सम्बंध में सभी विभागों की बैठक की। बैठक में फूलपुर की सांसद केशरी देवी पटेल, विधायक हर्षवर्धन वाजपेयी, जिलाधिकारी भानुचंद्र गोस्वामी, एडीएम सिटी अशोक कुमार कनौजिया, प्रभारी मेला अधिकारी रजनीश मिश्र सहित सम्बन्धित विभागों के अधिकारीगण मौजूद रहे।
सर्वप्रथम उप मुख्यमंत्री जी ने मेला को कितने सेक्टरों में बसाया जा रहा है कि जानकारी ली। खागचैक को किस सेक्टर अंतर्गत बसाया गया है की भी जानकारी ली। उन्हें बताया गया कि इस बार सेक्टर नं0-3 में खागचैक को बसाया जा रहा है, जिसमें सभी शंकराचार्य को स्थान दिया जायेगा। उन्होंने जानकारी ली कि कटान की वजह से जिन संस्थानों को पहले उपलब्ध करायी गयी जगह इस बार नहीं मिल पायी है, उन संस्थाओं को इस बार कहां पर जगह उपलब्ध करायी गयी है। इस बार कल्पवासियों के लिए क्या व्यवस्था की गयी है और उन्हें किस सेक्टर में बसाया गया है कि पूरी जानकारी लेते हुए निर्देश दिया कि कल्पवासियों को किसी भी तरह की तकलीफ नहीं होनी चाहिए। किसी भी हाल में कोई भी कल्पवासी खुले में शौच न करें, इसके पर्याप्त संख्या में शौचालयों की व्यवस्था की जाये। 10 जनवरी तक मेले में कल्पवासियों का आगमन शुरू हो जायेगा, इसके पूर्व ही मूलभूत सुविधाओं की सारी व्यवस्था कर ली जाये, जिससे कल्पवासियों को किसी प्रकार की असुविधा न हो। उन्होंने कल्पवासियों को घाटों के समीप ही बसाया जाये। पुलिस विभाग के अधिकारियों से कहा कि पिछले कुम्भ मेले की तरह ही इस बार भी उनका व्यवहार यात्रियों के प्रति सभ्य एवं शालीन होना चाहिए, इसके लिए उन्होंने पुलिस अधिकारियों को ट्रेेेनिंग दिलाने के निर्देश भी दिए। उन्होंने मेले में कुछ छोटे दुकानदारों द्वारा उनकी दुकानों को उजाड़ने की शिकायत पर अधिकारियों को कहा कि किसी को उजाड़ने से पहले उनके लिए कोई दूसरी जगह की व्यवस्था कर दे। हमारी सरकार गरीबों के साथ है उन्हें जीवन यापन के लिए किसी प्रकार की दिक्कत का सामना न करना पड़े, सरकारी अमले को इसका विशेष ध्यान रखना चाहिए।
स्वास्थ्य विभाग की तैयारियों की समीक्षा करते हुए कहा कि स्वास्थ्य विभाग मेले से जुड़ा हुआ महत्वपूर्ण विभाग है। टाॅयलेटों की संख्या के बारे में जानकारी लेते हुए कहां कि कुम्भ मेले की भांति ही इस बार भी सफाई का विशेष ध्यान रखा जाय। उन्होंने मेले में साफ-सफाई की व्यवस्था चाक-चैबंद रखने के निर्देश दिए। इसके लिए मेले में कितने सफाई कर्मियों की ड्यूटी लगायी गयी है कि जानकारी भी ली। उन्होंने अधिकारियों से नई संस्थाओं के विषय में कार्ययोजना की जानकारी ली। उन्होंने कहा कि नई संस्थाओं के आवेदन की क्रांस चेकिंग कराकर उन्हें जहां तक सम्भव हो मूलभूत सुविधाओं को उपलब्ध कराया जाय। मेले में जो प्रमुख संस्थायें है, वहां पर डिस्प्ले बोर्ड लगवायें जाये। उन्होंने अधिकारियों से कहा कि मौसम के विषय में भी जानकारी रखे। प्रायः देखा गया है कि बारिश के कारण मेले में बहुत सी परेशानियों को सामना श्रद्धालुओं को करना पड़ता है। इससे सबक लेकर पूर्व में ही उचित व्यवस्था कर ले। जल निगम के अधिकारियों से मेला क्षेत्र में पाईप लाइन बिछाने के सम्बन्ध जानकारी ली, उन्हें बताया गया कि लगभग कार्य को पूरा कर लिया गया है। विद्युत विभाग ने बताया कि मेला क्षेत्र में विद्युत से सम्बन्धित कार्य को पूरा कर लिया गया है, जिस पर उप मुख्यमंत्री ने पिछले कुम्भ में शार्ट सर्किट से हुई घटनाओं से सबक लेकर इस बार ऐसी कोई घटना न होने पाये, इसका विशेष ध्यान रखा जाये। इसके लिए वायरिंग के कार्य को सही तरीके से कराया जाये, जिससे शार्ट सर्किट की सम्भावना न के बराबर रहे। उन्होंने गंगा प्रदूषण विभाग को निर्देश दिया कि कोई भी गंदा नाले का पानी गंगा नदी में नहीं गिरना चाहिए। ठंड के दृष्टिगत माघ मेले में अलावा की व्यवस्था चाक-चैबंद रखने के निर्देश सम्बन्धित अधिकारियों को दिए। उन्होंने वहां मौजूद अधिकारियों से कहां कि माघ मेले के दौरान कोई संस्था या कोई व्यक्ति आपके पास अपनी कोई शिकायत लेकर आता है, तो इसके लिए उच्चस्तरीय अधिकारी को नियुक्त किया जाये जो हर वक्त वहां पर उपस्थित रहकर शिकायतकर्ता की शिकायतों को समाधान करें और यह ध्यान रखे कोई भी असंतुष्ट होकर वापस न लौटे।
उपमुख्यमंत्री ने कहा कि प्रयागराज के कुम्भ मेले की पूरी विश्व में भूरि-भूरि प्रशंसा हुई है, जिस प्रकार कुम्भ का श्रेय आप सब को मिला है, उसी प्रकार से माघ मेला का सफल आयोजन कर इसको सफल बनाने मे अपना सहयोग प्रदान करें।